Saturday , 23 February 2019
लेटेस्ट अपडेट
Home / गूगल / अब तक का सबसे बड़ा जुर्माना 4.3 अरब यूरो का गूगल पर लगा जुर्मना

अब तक का सबसे बड़ा जुर्माना 4.3 अरब यूरो का गूगल पर लगा जुर्मना

यूरोपीय आयोग ने यह फ़ैसला उस दावे की जांच के बाद दिया जिसमें यह आरोप लगाया गया था कि अमरीकी कंपनी गूगल ने अपने मोबाइल डिवाइस रणनीति के तहत गूगल सर्च इंजन को ग़लत तरीके से और अधिक ताक़तवर बनाया.

यह किसी भी कंपनी पर लगाया गया आज तक का सबसे बड़ा जुर्माना है. हालांकि गूगल इसके ख़िलाफ़ दावा कर सकती है.कॉम्पिटीशन कमिश्नर मार्गरेट वैस्टेजर ने पहले भी ‘शॉपिंग कॉम्पैरिज़न सर्विस’ के मामले में गूगल पर 2.4 अरब यूरो का जुर्माना लगाया था. गूगल ने उस आदेश के ख़िलाफ़ अपील की थी, जिस पर सुनवाई अभी भी चल रही है.

इसे भी पढ़ें: क्रांति की पृष्ठभूमि

इसे भी पढ़ें:  Asphalt 9 for Android and iOS Could Be the Best Mobile Racing Game Yet

इसके अलावा, गूगल के ख़िलाफ़ ऐडसेंस (विज्ञापन प्लेसमेंट) को लेकर भी एक जांच चल रही है. इस मामले में गूगल पर आरोप है कि उसने अपनी शक्तियों का ग़लत इस्तेमाल करके सर्च नतीजों में अपनी ख़रीदारी सर्विस का ज़्यादा प्रचार किया.

यूरोपीय आयोग ने पहली बार अप्रैल 2015 में फ़ेयरसर्च की एक शिकायत के बाद एंड्रॉयड की जांच शुरू की थी. फ़ेयरसर्च एक बिज़नेस समूह है जिसके सदस्यों में माइक्रोसॉफ्ट, नोकिया और ओरेकल शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें: Mozilla might be working on an Android Browser named ‘Fenix’

रिसर्च कंपनी स्टैटकाउंटर के मुताबिक उस वक्त एंड्रॉयड का यूरोपीय हैंडसेट बाज़ार में 64% हिस्सा था जो अब बढ़ कर 74% हो गया है.

क्या है गूगल पर आरोप?

  • कॉम्पिटीशन कमिश्नर मार्गरेट वैस्टेजर ने आरोप लगाया कि गूगल ने तीन अवैध तरीके अपनाए.
  • नए हैंडसेट में प्लेस्टोर (ऐपस्टोर) तक पहुंचने से पहले गूगल सर्च इंजन को डिफ़ॉल्ट सेट करने और क्रोम ब्राउज़र को प्री-इंस्टॉल करने की ज़रूरत को अनिवार्य बनाने के लिए एंड्रॉयड हैंडसेट और टैबलेट निर्माताओं पर दबाव बनाया.
  • मोबाइल निर्माताओं को एंड्रॉयड के ओपन सोर्स कोड पर आधारित प्रतिद्वंद्वी ऑपरेटिंग सिस्टम वाले मोबाइल फ़ोन को बेचने से रोका.
  • और गूगल सर्च को एकमात्र प्री-इंस्टॉल विकल्प बनाने के लिए मोबाइल निर्माताओं और मोबाइल नेटवर्कों को वित्तीय प्रलोभन दिया.

इसे भी पढ़ें :  गाजर का हलवा बनाने की विधि (गरमा गरम बनाये सबके साथ खाए)

इसके जवाब में गूगल ने मोबाइल निर्माताओं को किसी भी ऐप को प्रीलोड करने के आरोप से इंकार किया.

गूगल ने यह भी दावा किया कि गूगल सर्च और प्लेस्टोर को एक साथ देने ने उसकी सेवा को मुफ़्त उपलब्ध कराना संभव बना दिया था.

नियामक गूगल से अब क्या चाहते हैं?

कॉम्पिटीशन कमिश्नर ने कहा कि गूगल ने यह तब किया जब मोबाइल इंटरनेट तेज़ी से बढ़ रहा था. वो यह सुनिश्चित करना चाहता था कि जो सफलता उसे कंप्यूटर के डेस्कटॉप पर विज्ञापन आधारित सर्च सेवा में मिली है वो ही सफलता उसे मोबाइल पर भी मिले.

इसे भी पढ़ें :  BSNL Connects Kolkata to Guwahati Using Optical Fibre

उन्होंने कहा कि वो समय को वापस तो नहीं मोड़ सकते, लेकिन जुर्माने की बड़ी रकम एंड्रॉयड डिवाइस से पूरे यूरोप में 2011 से हुई उसकी कमाई पर आधारित है.

हालांकि उन्होंने कहा कि गूगल अब उपरोक्त तीनों कार्यों को रोके और लक्ष्यों को लेकर ऐसे किसी भी उपाय को अपनाने से बचे.

गूगल के पास क्या है विकल्प?

2016 में कंपनी के वैश्विक मामलों के प्रमुख ने ब्लॉग में लिखा, “आयोग के इस नज़रिए का मतलब नएपन में कमी, कम विकल्प, कम प्रतिस्पर्धा और अधिक कीमतें होंगी.”

उन्होंने लिखा, कुछ भी हो एप्पल और गूगल की प्रतिद्वंद्वी आईओएस ऑपरेटिंग सिस्टम उपभोक्ताओं को एक विकल्प देती है.

गूगल ने रूस में पहले से ही रियायत दे रखी है, जहां स्थानीय कॉम्पिटीशन नियामक ने ऐसी ही शिकायत कर रखी है.

अब वहां के एंड्रॉयड यूज़र्स को क्रोम ब्राउज़र का पहली बार इस्तेमाल करने पर गूगल, यानडेक्स और मेल.आरयू में से किसी एक को चुनने का विकल्प दिया जाता है.

इसे भी पढ़ें:  खूबसूरती और सेहत का भी ध्यान रखता है गुलाब, जाने कैसे

स्टैटकाउंटर के मुताबिक इस बदलाव के बाद से यानडेक्स की मोबाइल सर्च इंजन में हिस्सेदारी क़रीब 34% से बढ़कर 46% हो गया है.

लेकिन एक क़ानूनी विशेषज्ञ का कहना है कि इस विवाद को सुलझाने में बहुत वक्त लगेगा.

लंदन स्थित कोर्ट के वकील सुजैन रब ने बीबीसी को बताया, “गूगल ने पहले भी यह दिखाया है कि वो अपने क़ानूनी अधिकारों को लेकर बहुत दृढ़ है.”

वो कहते हैं, “गूगल ईयू की अदालत में इस फ़ैसले के ख़िलाफ़ अपील कर सकता है और जैसा कि हमने यूरोपीय आयोग के इंटेल के ख़िलाफ़ मामले में देखा है, ऐसे मुक़दमे महीनों नहीं सालों तक चलते हैं.”

अगर आपको ये पोस्ट अच्छा लगे तो नीचे वाले बटन पर क्लिक कर के शेयर जरुर करें

About HusneAra

मैं हुसनेअरा मुझे सिखाना बहुत पसंद है मैं दूसरों को सिखाकर एक अलग तरह की खुशी हासिल करती हूं मुझे ब्यूटी टिप्स एंड हेल्थ टिप्स में अच्छी खासी नॉलेज है इसलिए मैं चाहती हूं कि इस विषय में कुछ लिखूं और दूसरों को उनके हेल्थ के टिप्स दूँ ताकि मुझे एक खुशी मिले साथ ही में आप को टेक की जानकारी भी देती रहूंगी

यह भी जांचें

भारत में लांच हुआ 5 कैमरे वाला LG V40 ThinQ प्री-बुकिंग शुरू

भारत में लांच हुआ 5 कैमरे वाला LG V40 ThinQ, प्री-बुकिंग शुरू LG V40 ThinQ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *